Home Apne dil ki Baat Ek lafz MohabbatApne dil ki Baat Ek lafz Mohabbat Hindi Shayari Images Download Text
Apne dil ki Baat Ek lafz Mohabbat Hindi Shayari Images Download Text

Apne dil ki Baat Ek lafz Mohabbat Hindi Shayari Images Download Text

#sad shayari-naraz ho images-chahat shayari with image-dur jane ki shayari image-chal hat tere jaisi 17 milegi images-dil dukhana shayri-chahat @!#images in hindi-judai image shayari,Apne dil ki Baat Ek lafz Mohabbat Hindi Shayari Images Download Text.

1खुदा करे वो अचानक सामने आकर,
मेरे लबों को कुछ नए सवाल दे जायें।
Khuda kare woh achaanak saamane aakar,
Mere labon ko kuchh naye sawaal de jaayen..11

लोग कहते हैं कि तू अब भी ख़फ़ा है मुझ से,
तेरी आँखों ने तो कुछ और कहा है मुझ से।
1Log kahate hain ki tu ab bhi khafa hai mujhse,
Teri aankhon ne to kuchh aur kaha hai mujhse.. 1

गिला भी तुझसे बहुत है, मगर मोहब्बत भी,
वो बात अपनी जगह है, ये बात अपनी जगह।
Gila bhi tujhse bahut hai, magar mohabbat bhi,
Woh baat apani jagah hai, yeh baat apani jagah..

तूने मोहब्बत, मोहब्बत से ज्यादा की थी,
मैंने मोहब्बत तुझसे भी ज्यादा की थी,
अब किसे कहोगे मोहब्बत की इन्तेहाँ,
हमने शुरुआत ही इन्तेहाँ से ज्यादा की थी।
Tune mohabbat, mohabbat se jyaada ki thi,
Mainne mohabbat tujhse bhi jyaada ki thi,
Ab kise kahoge mohabbat ki intehaan,
Hamune shuruaat hi intehaan se jyaada ki thi..

मुझे खींच ही लेती है हर बार उसकी मोहब्बत,
वरना बहुत बार मिला हूँ आखिरी बार उससे।
Mujhe kheench hi leti hai har baar usaki mohabat,
Warana bahut baar mila hoon aakhiri baar ussey..

काग़ज़ पे तो अदालत चलती है…
1हमने तो तेरी आँखो के फैसले मंजूर किये।
1Kagaz pe to adaalat chalati hai…
Humne to teri aankho ke faisley manjoor kiye..

मुझे उस जगह से भी मोहब्बत हो जाती है,
जहाँ बैठ कर एक बार तुम्हें सोच लेता हूँ।
1Mujhe us jagah se bhi mohabbat ho jaati hai,
Jahaan baith kar ek baar tumhein soch leta hoon..

मैं अल्फाज़ हूँ तेरी हर बात समझता हूँ ,
मैं एहसास हूँ तेरे जज़्बात समझता हूँ ,
कब पूछा मैंने कि क्यूँ दूर हो मुझसे ,
मैं दिल रखता हूँ तेरे हालात समझता हूँ ।

1Mein alfhaz hoon teri har baat samajhata hoon,
Main ehasaas hoon tere jazbaat samajhata hoon,
Kab poochha mene ki kyun door ho mujhase,
Main dil rakhata hoon tere halaat samajhata hoon ..

मोहब्बत की भी देखों ना,
कितनी अजीब कहानी है,
जहर तों पिया मीरा ने,
फिर भी राधा ही दिल की रानी हैं।
Mohabbat ki bhi dekho na,
Kitani azeeb kahaani hai,
Zahar toh piya mira ne,
Phir bhi raadha hi dil ki rani hain..

उसके साथ रहते रहते हमे चाहत सी हो गयी,
उससे बात करते करते हमे आदत सी हो गयी,
एक पल भी न मिले तो न जाने बेचैनी सी रहती है,
दोस्ती निभाते निभाते हमे मोहब्बत सी हो गयी।
1Uske saath rahate-rahate hume chaahat si ho gayi,
Us se baat karate karate hame aadat si ho gayi,
Ek pal bhi na mile to na jaane bechaini see rahati hai,
Dosti nibhaate nibhaate hame mohabbat see ho gayee..

1चांदनी रात में बरसात बुरी लगती है…
और महबूबा रूठ जाये तो हर बात बुरी लगती है।
1Chandani raat mein barasaat buri lagatee hai…
Aur mahabooba rooth jaaye to har baat buri lagati hai..

1बहुत ज़ालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते हो,
जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो।
Bahut zaalim ho tum bhi muhabbat aise karate ho,
Jaise ghar ke pinjare mein parinda paal rakha ho..

1तुम तो अपने घर के थे तुमसे कोई पर्दा न था लेकिन,
जो दिल की बात थी ज़ालिम वही मुँह से नहीं निकली।

1Tum to apane ghar ke the tumse koi parda na tha lekin,
Jo dil ki baat thi zaalim wahi munh se nahin nikali..

काश तू चाँद मैं तारा होता,
आसमान पे एक आशियाना हमारा होता,
लोग तुम्हें दूर से देखते,
पास आने का हक़ सिर्फ हमारा होता।

Kaash tu chaand main tara hota,
Aasamaan pe ek aashiyana hamara hota,
Log tumhein door se dekhate,
Paas aane ka haq sirph hamara hota..

हमारे आँसू पोंछ कर वो मुस्कुराते हैं,
इसी अदा से वो मेरे दिल को चुराते हैं,
हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को,
बस इसी उम्मीद में खुद को रुलाते हैं।

Hamure Aansu puch kar Woh muskuraate hain,
Isi ada se woh mere dil ko churate hain,
Haath unka chhu jaaye hamaare chehare ko,
Bas isi ummid mein khud ko rulaate hain..

1खुद को वो चाहे लाख मुकम्मल समझे,
लेकिन मेरे बिना वो मुझे अधूरा ही लगता है!
Khud ko woh chaahe lakh mukammal samajhe,
Lekin mere bina woh mujhe adhoora hi lagata hai1111

1बदलना आता नहीं हमें मौसम की तरह,
हर इक रुत में तेरा इंतज़ार करते हैं,
ना तुम समझ सकोगे जिसे क़यामत तक,
कसम तुम्हारी तुम्हें इतना प्यार करते हैं।
1Badalana aata nahin hamein mausam ki tarah,
Har ek rut mein tera intazaar karate hain,
Na tum samajh sakoge jise qayaamat tak,
Kasam tumhari tumhein itana pyaar karate hain..

दिल की धड़कन और मेरी सदा है वो,
मेरी पहली और आखिरी वफ़ा है वो,
चाहा है उसे मैंने चाहत से बढ़ कर,
मेरी चाहत और चाहत की इंतिहा है वो।
Dil ki dhadakan aur meri sada hai woh,
Mere pheli aur aakhiri wafa hai woh,
Chaha hai use maine chahat se badh kar,
Meri chaahat aur chahat ki intiha hai woh..

काश ये पल थम जाता इस पल को जिंदगी भर जीने को मन करता है।
मगर जो थम जाये वो जिंदगी नही।
Kash yeh pal tham jaata Is pal ko
jindagi bhar jine ko man karata hai.
Magar jo tham jaaye vo jindagi nahi..

गीत आप का होगा,
गजल हम बनायेगे,
रास्ते आप चुनेंगे,
मंजिल हम बनायेगे हाथ आप देंगे साथ हम निभाएंगे.
1Geet aap ka hoga,
Gajal ham banaayege,
Raaste aap chunenge,
Manjil hum banaayege Haath
aap denge Saath ham nibhaenge1111

जोश-ए-जुनूँ में लुत्फ़-ए-तसव्वुर न पूछिए,
फिरते हैं साथ साथ उन्हें हम लिए हुए।
Josh-E-Junoon mein lutf-e-tasavvur na puchiye,
Firte hain saath saath unhein hum liye huye..

नफरतों के जहान में हमको प्यार की बस्तियां बसानी हैं,
दूर रहना कोई कमाल नहीं, पास आओ तो कोई बात बने।
Nafrato ke jahaan mein hamako
Pyar ki bastiyaan basani hain,
Door rahana koi kamal nahin,
Paas aao to koyi baat bane..

बरबाद कर देती है मोहब्बत,
हर मोहब्बत करने वाले को,
क्योंकि इश्क़ हार नही मानता,
और दिल बात नही मानता।
Barabaad kar deti hai mohabbat,
Har mohabbat karane wale ko,
Kyunki ishq haar nahi manata,
Aur dil baat nahi maanata..

1जो रहते हैं दिल में वो जुदा नहीं होते,
कुछ एहसास लफ़्ज़ों से बयां नहीं होते,
एक हसरत है कि उनको मनाये कभी,
एक वो हैं कि कभी खफा नहीं होते।
Jo rahate hain dil mein woh juda nahin hote,
Kuchh Ahasaas lafzon se bayaan nahin hote,
Ek hasarat hai ki unko manaaye kabhi,
1Ek woh hain ki kabhi kafa nahin hote..

बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी,
फिर भी बेइंतहा तुझे चाहने की बेबसी मेरी।
Bewaqt bewajah besabab si berukhi teri,
Phir bhi beintaha tujhe chahane ki bebasi meri..

सितारों को आँखों में महफूज रखना,
बड़ी देर तक रात ही रात होगी,
मुसाफिर हैं हम, मुसाफिर हो तुम भी,
किसी मोड़ पर फिर मुलाक़ात होगी।

1Sitaaron ko aankhon mein mahephooj rakhana,
Badi der tak raat hi raat hogi,
Musafir hain hum, Musafir ho tum bhi,
Kisi mod par phir mulaqaat hogi..1111

1टूटी हुई डाली का दर्द उसकी साख से पूँछो,
धरती की प्यास बरसात से पूँछो,
मैं आपको कितना चाहता हूँ,
ये मुझसे नहीं अपने आप से पूँछो।

1Tuti huyi dali ka dard usaki saakh se poonchho,
Dharati ki pyaas barasaat se poonchho,
Main aapako kitana chaahata hoon,
Yhe mujhse nahin apane aap se poonchho..

1तेरा नाम ही ये दिल रटता है,
ना जाने तुम पे ये दिल क्यू मरता है
नशा है तेरे प्यार का इतना,
कि तेरी ही याद में ये दिन कटता है।

1Tera naam hi ye dil ratata hai,
Na jaane tum pe ye dil kyoo marata hai
Nasha hai tere pyaar ka itana,
Ki teri hi yaad mein ye din katata hai..

1अपने दिल की बात उनसे कह नहीं सकते,
बिन कहे भी जी नहीं सकते, ऐ खुदा…
ऐसी तकदीर बना,
कि वो खुद हम से आकर कहे कि
हम आपके बिना जी नही सकते1111

Apane dil ki baat unse kah nahin sakate,
Bin kahe bhi ji nahin sakate,

1तुझे भूलकर भी न भूल पायेगें हम,
बस यही एक वादा निभा पायेगें हम,
मिटा देंगे खुद को भी जहाँ से लेकिन,
तेरा नाम दिल से न मिटा पायेगें हम।

Tujhe bhoolakar bhi na bhool paayegen hum,
Bas yahi ek Waada nibha paayegen hum,
Mita denge khud ko bhi jahaan se lekin,
Tera naam dil se na mita paayegen hum..
Aye khuda…aisi takadir bana,
Ki who khud hum se aakar kahe ki Hum aapake bina ji nahi sakate..

कभी क़रीब तो कभी दूर हो के रोते हैं,
मोहब्बतों के भी मौसम अजीब होते हैं।

Kabhi qareeb to kabhi door ho ke rote hain,
Mohabbaton ke bhi mausam ajib hote hain..

1कभी पहलू में आओ तो बताएँगे तुम्हें,
हाल-ए-दिल अपना तमाम सुनाएँगे तुम्हें ।
काटी हैं कैसे हमने तन्हाई की ये रातें,
हर उस रात की तड़प दिखाएँगे तुम्हें111

1Kabhi pahaloo mein aao to bataenge tumhein,
Haal-e-dil apana tamaam sunaenge tumhein.
Kaatee hain kaise hamane tanhai ki ye raaten,
Har us raat kee tadap dikhaenge tumhein..

एक लफ्ज मुहब्बत का,
इतना सा फसाना है,
सिमटे तो दिले आशिक,
बिखरे तो जमाना है।

1Ek laphz mohabbat ka,
Itana sa fasaana hai,
Simate to dil-e-aashik,
Bikhare to jamaana hai..

1राह में संग चलूँ ये न गँवारा उसको,
1दूर रहकर वो करता है इशारे बहुत,
नाम तेरा कभी आने न दिया होंठों पर,
यूँ तेरे जिक्र से शेर सँवारे हैं बहुत।

1Raah mein sang chaloon ye na ganwaara usko,
Door rahakar woh karata hai ishaare bahut,
Naam tera kabhi aane na diya honthon par,
Yuh tere jikr se sher sanvaare hain bahut..

नजर से क्यूँ जलाते हो आग चाहत की,
जलाकर क्यूँ बुझाते हो आग चाहत की,
सर्द रातों में भी तपन का एहसास रहे,
हवा देकर बढ़ाते हो आग चाहत की।

1Najar se kyun jalaate ho aag chaahat ki,
Jalaakar kyun bujhaate ho aag chaahat ki,
Sard raaton mein bhi tapan ka ehasaas rahe,
Hawa dekar badhaate ho aag chaahat ki..

1उसके लिये तो मैंने यहाँ तक दुआएं की है,
कि कोई उसे चाहे भी तो बस मेरी तरह चाहे।
Uske liye to mainne yahaan tak duaen ki hai,
Ki koi use chaahe bhi to bas meri tarah chahe..

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons